Skip to content Skip to footer

499.00

  • Availability  Available
  • Dhyan Asan
  • Weight  260g

Description

Gomaya Dhyana Asana

The information you’ve provided describes the Goseva Gomaya Aasana, a sitting posture made from the dung of indigenous cows. It appears to be associated with cultural and traditional practices, emphasizing its benefits for naturopathy, worship, and meditation. Here’s a summary of the key points:

Goseva Gomaya Dhyana Asana Features:

  1. Material: Made from pure indigenous cow dung, reflecting Indian culture.
  2. Naturopathy: Suggested to be beneficial for naturopathy treatment and known for its use in sitting or worship over Gomaya Dhyana Asana.
  3. Scientific Basis: Refers to the scientific confirmation of the presence of useful substances in cow dung, believed to generate positive waves and transmit energy in the body.
  4. Mythological Significance: The mythological history mentions that Lakshmi, the Goddess of Wealth, dwells in cow dung, a belief that modern science now considers confirmed.
  5. Health Benefits: Claimed to calm the body, mind, and brain, protecting against various diseases. Experts claim that continuous use promotes overall health.
  6. Negativity Prevention: Suggested to prevent negativity, keeping the body energetic and aiding in the prevention of conditions like depression, anxiety, blood pressure issues, skin ailments, and stomach problems.
  7. Meditation and Worship: Highlighted as an excellent posture for meditation and worship. Believers attribute special blessings to sitting on the Gomaya Dhyana Asana during Lakshmi Mantra chanting.
  8. Versatility: You can use it anywhere, including homes, temples, cars, office chairs, sofas, and beds.
  9. Cover Material: The top cover is made of 100% cotton, claimed to be skin-friendly and eco-friendly.
  10. Seasonal Adaptability: Noted for its ability to cool the body in summer and provide warmth in winter.
  11. Universal Usage: Because of its purity, people of all ages, including men, women, and children, suggest it to be suitable.

The information provided reflects the traditional beliefs and cultural significance associated with the Goseva Gomaya Aasana. Individuals interested in using such products should consider personal preferences, cultural beliefs, and any potential health considerations.

गोमय ध्यान आसन की विशेषताएं Gomaya Dhyana Asana:

  1. सामग्री: देसी (स्थानीय) गाय के पावन गोबर से बना, जो भारतीय सांस्कृतिक प्रथाओं को प्रतिबिंबित करता है।
  2. बहुमुखीता: गोमय आसन का उपयोग केवल पूजा के लिए ही नहीं, बल्कि प्राकृतिक चिकित्सा के लिए भी किया जाता है।
  3. सांस्कृतिक महत्व: गोमय (गाय का गोबर) के उपयोग का विवरण भारतीय सांस्कृतिक प्रथाओं की योग्य रूप से प्रतिष्ठानित करता है।
  4. पौराणिक संदर्भ: “गौमय वस्ते लक्ष्मी” का उल्लेख करते हुए, यह सुझाव देता है कि गोबर में देवी लक्ष्मी का आवास होता है, जो कि अब वैज्ञानिक रूप से स्थापित है, उपयोगी पदार्थों की मौजूदगी को सूचित करता है।
  5. सकारात्मक तरंगें: इस आसन का उपयोग करने से सकारात्मक तरंगें उत्पन्न होती है। ये तरंगें सकारात्मक आयन रक्त कोशिकाओं के माध्यम से ऊर्जा अंतरित करने में मदद करती है। सारे शरीर, मन और मस्तिष्क को शांत करती हैं, रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाती हैं।
  6. स्वास्थ्य लाभ: इसका दावा है कि यह मन को शांत और ठंडक से भर देता है, सम्पूर्ण स्वास्थ्य में सुधार करता है, और विभिन्न बीमारियों से बचाता है। सामग्री का नियमित उपयोग पूर्णता की ओर बढ़ने का कारण है।
  7. ध्यान और पूजा: ध्यान और पूजा के लिए उत्कृष्ट माने जाने वाले आसन के रूप में। लक्ष्मी मंत्र का जाप करते समय गोमय आसन पर बैठने से विशेष कृपा मिलने का विश्वास है।
  8. नकारात्मकता का निवारण: विवरण है कि यह नकारात्मकता को रोकता है, पूरे दिन ऊर्जाशील रखता है और डिप्रेशन, घबराहट, ब्लड प्रेशर, त्वचा रोग और पेट संबंधित समस्याओं से बचाता है।

Additional information

Weight260 g
Weight

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Gomaya Dhyana Asana (COW DUNG SEAT)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Consult Vaidya